Raipur Times

Breaking News

Eye Flu in chhattisgarh छत्तीसगढ़ में तेजी से फैल रहा आई फ्लू:दो दिनों में 500 मरीज मिले, दुर्ग में स्कूली बच्चे सबसे ज्यादा संक्रमित

Eye Flu in chhattisgarh छत्तीसगढ़ में बारिश के मौसम में आई फ्लू तेजी से फैल रहा है। सभी जिलों में आंख के संक्रमण से लोग परेशान है। दुर्ग जिले की बात करें तो यहां अस्पताल पहुंचने वाला हर चौथा मरीज कंजक्टिवाइटिस की समस्या लेकर अस्पताल पहुंच रहा है। खासकर बच्चों में यह बीमारी तेजी से फैल रही है। बिलासपुर जिले में बीते दो दिनों में 500 मरीज मिले हैं।छत्तीसगढ़ के दुर्ग( Durg) में लगभग 600 से 700 मरीज आई फ्लू या कन्जंक्टिवाइटिस (conjunctivitis) बीमारी से ग्रसित हैं. आई फ्लू बीमारी से सबसे ज्यादा प्रभावित स्कूली बच्चे हो रहे हैं.

दुर्ग जिले में स्वास्थ्य विभाग प्रभावित इलाके में शिविर लगाकर जांच कर रहा है। दो दिन पहले खुर्सीपार क्षेत्र के शिवाजी नगर में शिविर लगाया गया था। जिसमें दो घंटे के भीतर ही कंजक्टिवाइटिस के 70 से अधिक मरीज पहुंच गए थे। इसमें बच्चों से लेकर, गर्भवती महिलाएं, युवा और बुजुर्ग सभी शामिल थे। खुर्सीपार प्रभारी डॉ. सोनिका चौरसिया के मुताबिक अधिकतर मरीज आखों में अधिक लालिमा और दर्द की समस्या को लेकर पहुंचे थे।

Raipur : रायपुर में इस जगह हुआ भीषण सड़क हादसा, सफारी कार बीच सड़क पर पलटी, 2 युवक गंभीर रूप से घायल

Eye Flu in chhattisgarh छत्तीसगढ़ स्वास्थ्य विभाग ने प्रदेश में संचालित सभी स्कूलों और छात्रावासों में आई फ्लू की रोकथाम के लिए एडवायजरी जारी कर दी है. स्वास्थ्य विभाग ने एडवायजरी में कहा कि राज्य में कन्जंक्टिवाइटिस के केस बढ़ गए हैं. यह सम्पर्क से फैलने वाली बीमारी है जो घनी आबादी क्षेत्र में अधिक फैलता है. राज्य में संचालित विद्यालय, आवासीय विद्यालय, आश्रम छात्रावास और छात्रावास में छात्र-छात्राएं समूह में रहते हैं. जिनमें यह बीमारी फैल सकती है. इसलिए अपने अधिनस्थ संचालित संस्थाओं में इस बीमारी की रोकथाम के लिए आवश्यक निर्देश दें.

ये हैं बीमारी के लक्षण Eye Flu in chhattisgarh

आई फ्लू में आंखें लाल हो जाती हैं. आंखों से पानी आने लगता है, जलन होती है. पलकों पर पीला और चिपचिपा तरल जमा होने लगता है. आंखों में चुभन होने के साथ-साथ सूजन आ जाती है. आंखों से पानी आना और खुजली होना इसके सामान्य लक्षण हैं. अगर इन्फेक्शन गहरा हो तो आंखों की कॉर्निया को भी नुकसान हो सकता है जिससे आंखों की दृष्टि प्रभावित हो सकती है. मानसून सीजन में आई फ्लू का खतरा बच्चों में सबसे ज्यादा होता है.

Sawan Puja Bhog: सावन में शिव जी को प्रसन्‍न करने के लिए बनाएं ये भोग, तुरंत बरसेगी कृपा!

स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टर ने दी यह जानकारी

Eye Flu in chhattisgarh छत्तीसगढ़ महामारी नियंत्रण संचालक डॉ. सुभाष मिश्रा ने बताया कि कन्जंक्टिवाइटिस संक्रामक बीमारी है जो सम्पर्क से फैलती है. इसलिए मरीज को अपनी आंखों को हाथ नहीं लगाने की सलाह दी जाती है. मरीज के उपयोग की चीजों को अलग रखकर इस बीमारी के फैलाव को रोका जा सकता है. संक्रमित की आंख को देखने से इस बीमारी के फैलने की धारणा केवल भ्रम है. यह बीमारी केवल सम्पर्क से ही फैलती है.

लक्षण और बचाव के तरीके

नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉक्टर शशि जैन ने बताया कि आई फ्लू एक प्रकार का संक्रमण है. यह बीमारी ज्यादातर मानसून सीजन में ही आती है. यह बैक्टीरियल इनफेक्शन और वायरल इनफेक्शन भी हो सकता है. इन दिनों ज्यादातर वायरल इनफेक्शन वाले मरीज ज्यादा आ रहे हैं, इसमें मरीजों के आंख में पानी आना, आंख का लाल हो जाना और चुभन लगना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं. कई बार मरीजों के आंख में ब्लड भी आ जाता है. एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में यह बीमारी फैल रही है. इसके लिए लोगों को बचाव के लिए सावधानी बरतनी आवश्यक है. इस बीमारी का पता लगते ही तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Contact

OUR DETAILS

Raipurtimes.in

Email: raipurtimes2022@gmail.com

Press ESC to close

Urfi Javed Latest Video: कपड़ों की जगह दो मोबाइल फोन लटकाकर निकलीं उर्फी जावेद,