Raipur Times

Breaking News

Mangalwar Vrat Niyam: आप भी रख रहे हैं मंगलवार के व्रत, जान लें ये नियम, हनुमान जी को प्रसन्न करने का है अचूक मंत्र

Mangalwar Vrat Niyam: हिंदू शास्त्रों में हर दिन किसी न किसी देवी-देवता को समर्पित है. मंगलवार का दिन हनुमान जी और मंगल ग्रह की पूजा का विधान है. इस दिन किए गए कुछ खास ज्योतिष उपाय मंगल ग्रह को मजबूत करते हैं. साथ ही, बजरंगबली को प्रसन्न करने में मदद करते हैं. कहते हैं जीवन में आ रही समस्याओं से निजात पाने के लिए मंगलवार के दिन व्रत रखना चाहिए.

ऐसी भी मान्यता है कि मंगलवार के दिन व्रत रखने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है. शास्त्रों में बताया गया है कि मंगलवार का दिन हनुमान जी को समर्पित है. इसलिए उनकी कृपा पाने के लिए मंगलवार के दिन विधिपूर्वक पूजा करनी चाहिए. इतना ही नहीं, मंगलवार के व्रत में कुछ खास नियमों का पालन करने से हनुमान जी की कृपा प्राप्त होती है. जानें मंगलवार व्रत से जुड़ी ये खास बातें.

इस दिन से शुरू करें मंगलवार के व्रत
बता दें कि अगर आप मंगलवार के व्रत रखने की सोच रहे हैं, तो मंगलवार के दिन किसी भी माह के शुक्ल पक्ष के पहले मंगलवार से इन व्रतों को शुरू किया जा सकता है. वहीं, अगर किसी खास मनोकामना के साथ व्रत रख रहे हैं, तो 21 या फिर 45 मंगलवार के व्रत रखें. इसके बाद व्रत का उद्यापन कर दें. मंगलवार के दिन उद्यापन करें और ब्राह्मणों या पंडित जी को भोजन कराएं.(Mangalwar Vrat Niyam)

मंगलवार व्रत के नियम
धार्मिक मान्यता है कि इस दिन व्रत के समय पवित्रता का खास ख्याल रखें. कहते हैं कि अगर आप मंगलवार के दिन व्रत रख रहे हैं, तो इस दिन मन को शांत रखें. ज्यादा से ज्यादा भगवान के नाम का स्मरण करें. बता दें कि मंगलवार के व्रत में नमक का सेवन नहीं किया जाता. व्रत के दौरान फलाहार किया जाता है. मंगलवार के दिन काले या सफेद वस्त्र पहनकर हनुमान जी की पूजा नहीं की जाती. व्रत के दौरान लाल रंग के वस्त्र पहनना अच्छा माना जाता है. मान्यता है कि इस दिन व्रत रखने वाले को दिन में एक बार ही भोजन करना चाहिए. हनुमान जी की पूजा के बाद ही अन्न ग्रहण करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Contact

OUR DETAILS

Raipurtimes.in

Email: raipurtimes2022@gmail.com

Press ESC to close

Urfi Javed Latest Video: कपड़ों की जगह दो मोबाइल फोन लटकाकर निकलीं उर्फी जावेद,