Raipur Times

Breaking News

रायपुर : गोमूत्र खरीदेगी बघेल सरकार, हरेली त्योहार से होगी शुरुआत, इतने प्रति लीटर होगी कीमत…

 RAIPUR TIMES रायपुर छत्तीसगढ़ की पारंपरिक त्योहार हरेली (Hareli Festival) 28 जुलाई को मनाया जाएगा. हर साल राज्य में धूमधाम से हरेली त्यौहार मनाया जाता है. इस बार भी सरकार हरेली त्योहार को खास तरह से मनाने जा रही है. पहले तो इस दिन सभी स्कूलों बच्चे गेड़ी नृत्य करेंगे इसके लिए प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा. दूसरा भूपेश बघेल सरकार गोमूत्र (Gomutra) खरीदी योजना का शुभारंभ करेंगे.

Chhattisgarh Government Buy Gomutra from Villagers: इसके लिए गोमूत्र खरीदी टीम ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) को एक रिपोर्ट सौंपी है. जिसके अनुसार 4 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से गोमूत्र खरीदी की जाएगी. योजना की शुरुआत के बाद गोबर और गोमूत्र खरीदी करने वाला त्तीसगढ़ देश की पहली राज्य बन जाएगा.

गोबर के बाद अब गोमूत्र की होगी खरीदी


दरअसल 2020 में हरेली त्योहार के दिन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गोबर खरीदी की शुरुआत की थी. इस योजना की देशभर में चर्चा हो रही है. वहीं राज्य सरकार  4 रुपए प्रति लीटर में गोमूत्र खरीदी करने के लिए आगे बढ़ रही है. कमिटी की रिपोर्ट के बाद ये तय माना जा रहा है की हरेली त्यौहार के दिन योजना की शुरुआत कर दी जाएगी.

इसके लिए  बड़े स्तर में तैयारी भी शुरू कर दी गई है. गोमूत्र खरीदी को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पिछले महीने अपने भेंट मुलाकात कार्यक्रम के दौरान ग्रामीणों के सामने एलान किया था. इसके लिए मुख्यमंत्री के निर्देश पर गोमूत्र खरीदी और उससे उपयोग के लिए जरूरी अध्ययन के लिए एक कमिटी बनाई गई थी. इस कमिटी ने ही अपने प्रस्ताव में 4 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से गोमूत्र की खरीदी की अनुसंशा की है.

 

28 जुलाई को शुरू होगी गोमूत्र खरीदी


गोमूत्र खरीदी को लेकर एबीपी न्यूज ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सलाहकार प्रदीप शर्मा से बातचीत की है. उन्होंने कहा है कि छत्तीसगढ़ में 4 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से गोमूत्र खरीदी जाएगी. इस योजना की शुरुआत हरेली त्योहार के दिन किया जाएगा.

READ MORE-रायपुर : मर गई इंसानियत गाय के पैर बांधकर युवक ने किया रेप,आरोपी गिरफ्तार

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने के लिए गोबर खरीदी योजना का अहम माना जाता है. अब गोमूत्र की खरीदी होगी तो इससे पशुपालक और ग्रामीणों को काफी लाभ मिलेगा. आज भी किसान गोमूत्र को रसायनिक खाद के रूप में उपयोग करते हैं.

 

हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़े रहने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें👇

https://chat.whatsapp.com/GW2o9ghwQNg6YfgPmZNgkP

Like us on Facebook

https://www.facebook.com/Raipurtimes.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Contact

Tarun Soni

Raipurtimes.in

Contact : +91 8770017959

Email: raipurtimes2022@gmail.com

Press ESC to close

Urfi Javed Latest Video: कपड़ों की जगह दो मोबाइल फोन लटकाकर निकलीं उर्फी जावेद,