raipur times
Homeछत्तीसगढ़खुशियों की दिवाली

खुशियों की दिवाली

दिवाली सभी मनाते हैं, पर ऐसे बहुत कम लोग होते हैं जो दिवाली की खुशी गरीबों में बाँटते हैं दुर्ग जिले की एक समाज सेवी संस्था डोनेट थोड़ा सा और ल्यासा फाऊंडेशन द्वारा जरूरतमंद बच्चों के साथ खुशियों की दिवाली मनाई गई ।

संस्था पिछले 8 वर्षो से आंगनबाड़ी के बच्चों के साथ खुशियों की दिवाली मनाते आ रही है । ये खुशियां 30 बच्चों के साथ शुरू की गई थी, आज 400 बच्चे हमारे साथ दिवाली ही नही बल्कि वर्ष के सभी त्यौहार एक साथ मिल जुल कर मानते हैं । डोनेट थोड़ा सा संस्था के द्वारा सभी 30 आंगनबाड़ी को गोद लिया गया है इसके तहत उन आंगनबाड़ी के सभी बच्चो के साथ जन्मदिन हो या त्यौहार मिल जुल कर एक साथ मानाया जाता है ताकि उन बच्चो को भी वो खुशी मिल सके जिसे लोग अपने घर के बच्चो को देना चाहते हैं और साथ ही उनको शिक्षा के प्रति प्रेरित भी किया जाता है। ये कार्यक्रम अकेले नहीं दुर्ग-भिलाई या कहे तो छत्तीसगढ़ के बहुत सारे एनजीओ और अन्य सहयोगियों के साथ मानते हैं। रेड ड्रॉप छत्तीसगढ़, गगन फाऊंडेशन, नव दृष्टि फाऊंडेशन, सेवक जन फाऊंडेशन ये सभी संस्थाएँ आपस में जुड़ी हुई हैं ये सभी संस्थाएँ आपसी सहयोग से कार्यक्रम को सफल बनाते हैं । खुशियों की दिवाली मनाने के लिये 1 साल पहले से ही तैयारी शुरू कर दी जाती है, ताकि बच्चों को हर बार कुछ नया अनुभव मिले। उन बच्चो के लिए डांस , ड्राइंग, गायन, रंगोली, मॉडलिंग जैसे कई प्रतियोगिता रखे जाते हैं। बच्चों को पहले ही नए कपड़े दिए जाते है ताकि वे दिवाली खुशियों के साथ मनाए, उनके लिए भोजन की व्यवस्था भी संस्था के द्वारा की जाती है सभी के लिए किताबें और पढ़ाई के सामान, पटाखे, मिठाई, नमकीन, खिलौने आदि खुशियों की झोली में घर जाते वक्त बच्चो के हाथ में उपहार स्वरूप दिया जाते है। बच्चों ने देशभक्ति, बेटी बचाओ, थीम पर छत्तीसगढ़ी नृत्य भी प्रस्तुत किया। *नयनदीप स्कूल* जो दृष्टि बाधित है उन बच्चो के द्वारा मनमोहक गायन प्रस्तुत किया गया।

 

इस कार्यक्रम को सफल बनाने में सुषमा श्री, विकास जायसवाल, राज अढतिया, पूर्वी अढतिया, कोमल अढतिया, हरजिंदर सिंह, खुशी जैन, गरिमा राजपूत, सूरज साहू, शीतल राव, श्रृद्धा चौधरी, संध्या पाठक , मनप्रीत कौर, स्मिता तांडी, स्वाति तांडी, रूपल गुप्ता,  पलक गुप्ता, मोनिका गुप्ता, आरती, निम्मी, सागर, लाला, हर्षु, भास्कर, रश्मि, वांचना, अथर्व, भानु, सौरभ और आंगनवाड़ी की सभी कार्यकर्ताओं का योगदान रहा ।

 

- Advertisement -
raipur times
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments