raipur times
Homeछत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ में अनोखी शादी: कुछ इस अंदाज में विदा हुई विदा दुल्हन,...

छत्तीसगढ़ में अनोखी शादी: कुछ इस अंदाज में विदा हुई विदा दुल्हन, मेहमानों को रिटर्न गिफ्ट में मिली ये चीजे…

कोरबा छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में एक ऐसी शादी हुई जो बहुत ही अनोखी थी. यहां गिफ्ट के नाम पर पैसों की बर्बादी नहीं होती थी। बल्कि विचार पर्यावरण के संतुलन के बारे में था। लोगों को इस बात के लिए भी प्रेरित किया गया कि वे अपने छोटे-छोटे प्रयासों से कैसे कम होती हरियाली को बचा सकते हैं।

दरअसल इस शादी में दुल्हन को 101 पौधे देकर विदा किया गया. इस शादी में आए मेहमानों, दोस्तों, रिश्तेदारों को भी एक अनोखा तोहफा मिला है. रिटर्न गिफ्ट के तौर पर सभी को फलदार और औषधीय पौधे दिए गए। ताकि वो न सिर्फ घर को हरा-भरा रखें बल्कि पौधों से उनका फायदा हो।

raipur times News

Viral Video: नहीं देखी होगी लड़की की ऐसी सेल्फी, देख लेंगे तो खुद भी सिर पकड़ लेंगे 

ये शादी है महतो परिवार की। दीपका, कोरबा जिले में रहने वाले निवासी चंद्रभूषण महतो और भुवनेश्वरी महतो की बेटी निशा का विवाह बालको निवासी भागवत जायसवाल और अनिता जायसवाल के बेटे स्वतंत्र जायसवाल से साथ हुआ। इस शादी में अपनी बहन को सामाजिक कार्यकर्ता प्रशांत महतो ने दहेज में 101 पौधे दिए गए जिसमें कई फलदार, छायादार पौधे शामिल हैं।

ऐसे आया आइडिया

प्रशांत महतो बताते है इस आइडिया के पीछे कई कारण हैं, जिनमें से प्रमुख जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण संतुलन के प्रति भावनात्मक रूप से लोगों को जोड़ने की कोशिश है। प्रशांत ने कहा वैवाहिक समारोह में महंगे खर्चीले अनुपयोगी गिफ्ट देने की परंपरा भी बंद होनी चाहिए। लोग जो गिफ्ट सामान देते हैं वो लोग या तो एक दूसरे को ही देते रहते हैं या फिर कुछ समय में अनुपयोगी हो जाते हैं। लेकिन शिद्दत से लगाया एक पौधा, पेड़ बनकर सैकडों सालों तक कॉर्बनडाई ऑक्साइड अवशोषित कर ऑक्सीजन उत्सर्जित करता रहेगा।

Ujjain : ताबड़तोड़ Viral हो रहा ये Video महाकाल मंदिर में महिला सुरक्षाकर्मियों ने गाने पर किया डांस अब सस्पेंड

खुद की शादी में मांगी थी पुरानी किताबें

प्रशांत महतो ने 2017 में अपने विवाह के दौरान भी कार्ड में गिफ्ट के बजाय नई पुरानी किताबें लाने की अपील की थी। प्रशांत अपने समूह चरामेति फाउंडेशन के जरिए इस चलन को बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं। अब कई शहरों में इनका संगठन दशगात्र, छठी, आदि कार्यकर्मो में भी पौधे आदान प्रदान करता है। अप्रेल 2018 को अपनी एक और बहन मनीषा महतो के विवाह कार्यक्रम में उपहार में पौधे ही दिए थे, अब तक प्रशांत 172 से ज्यादा वैवाहिक समारोह में पौधे दे चुके हैं।

- Advertisement -
raipur times
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments